Place ad here
जिलाधिकारी उधमसिंह नगर द्वारा मॉनसून की पूर्व तैयारी की बैठक

जिलाधिकारी उधमसिंह नगर द्वारा मॉनसून की पूर्व तैयारी की बैठक .

जिलाधिकारी उधमसिंह नगर द्वारा मॉनसून की पूर्व तैयारी की बैठक लेते हुए सभी अधिकारियों को निर्देश दिये गये कि वे अपने अपने संसाधनों का निरीक्षण कर व्यवस्थित कर ले । उन्होंने कहा कि जनपद अन्तर्गत सभी तहसीलों, थानों में उपलब्ध आपदा उपकरणों की जांच कर उन्हे क्रियाशील कर लें तथा आवश्यक उपकरणों की मांग कर लें। साथ ही उन्होंने आपदा मित्रों को प्रशिक्षण देने के भी निर्देश दियें। विगत वर्षो की भांति जनपद की आवश्यकतानुसार प्रत्येक तहसील में बाढ चौकिया एवं बाढ नियंत्रण कक्ष स्थापित करें तथा उक्त के सूचारू संचालन हेतु 24x7 के आधार पर कार्मिको की तैनाती करें साथ ही इसका प्रचार-प्रसार भी किया जाये। 

जिलाधिकारी महोदय ने कहा कि बाढ एवं जलभराव से प्रभावित होने वाले सडक मार्गो की समस्या का समाधान करते हुये एक कार्ययोजना तैयार कर ले। वैकल्पिक मार्गो, पुराने एवं कमजोर पुलो का चिन्हिकरण करते हुये मरम्मत कार्य ससमय कर लिये जाये। मानसून काल में बडे नालों एवं नालियों के अवरोध से जलभराव की समस्या को ध्यान में रखते हुये मानसून से पूर्व ऐसे स्थलो की सफाई यथाशीघ्र करा लें। मानसून से पूर्व आपदा संभावित व दूरस्थ क्षेत्रों में खाद्यान्न भण्डारण करने के साथ ही दवायें, डीजल व पेट्रोल भण्डारण करने के भी निर्देश संबंधित अधिकारियों को दियें गये। विद्युत व पेयजल सुचारू रखने हेतु संबंधित विभाग आपदा संभावित क्षेत्रों में पार्इप, विद्युत पोल, टांसफार्मर व अन्य उपयोगी सामाग्री का भण्डारण भी करना सुनिश्चित करें, ताकि आपदा के दौरान मूलभूत सुविधाओं को सुचारू किया जा सकें। मानसून के दौरान दूरसंचार सेवाये बाधित होने एवं इंटरनेट सिग्नल कमजोर होने से संचार सम्बन्धी सेवाये बाधित हो जाती है ऐसे स्थिति में बी0एस0एन0एल0 सहित समस्त दूरसंचार सेवा प्रदाता कम्पनी अपने नेटवर्क को निर्बाध्य रखने हेतु आवश्यक कार्यवाही कर लें। समस्त संचार सेवाये जनपद आपातकालीन नम्बर 1077 सहित अन्य नम्बरों को सूचारू रखने तथा संचार नेटवर्को से डायरेक्ट डायल होना सुनिश्चित कर लें। 

जिलाधिकारी महोदय ने उपजिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि ऐसी सुरक्षित परिसम्पत्तियों का भी चिह्मीकरण कर लिया जाये, जिनका आपदा के दौरान राहत शिविर के रूप में प्रयोग किया जा सके । सिंचाई एवं खनन विभाग द्वारा नदी मार्गो का चिन्हिकरण किया जाये जहा नदी का प्रवाह अवरोध हो गया हो तथा नदी द्वारा अपना मार्ग परिवर्तित कर दिया गया हो जिस कारण आबादी क्षेत्र में खतरे की सम्भावना को ध्यान में रखते हुये River Training Policy के अन्तर्गत वैधानिक कार्यवाही कर ली जाये। आपदा सम्भावित क्षेत्रों व नदी किनारे निवास करने वाले लोगों को Public Address System व अन्य माध्यमों से मौसम विभाग द्वारा जारी मौसम पूर्वानुमान में दी गई चैतावनी को प्रसारित किया जाना सुनिश्चित करें। जनपद स्तर पर गठित आई0आर0एस0 सिस्टम की भांति तहसील स्तर पर भी गठित आई0आर0टी0 का अपडेशन कर लिया जाये। 

बैठक में जिलाधिकारी महोदय, वरिष्ट पुलिस अधीक्षक, अपर जिलाधिकारी, समस्त उपजिलाधिकारी, सचिव जिला विकास प्राधिकरण, जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी, समस्त तहसीलदार सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपिस्थत थे।

1213

LEAVE A COMMENT

Comment